Study Materials

NCERT Solutions for Class 9th Science

 

Page 3 of 5

Chapter 6. ऊत्तक

अभ्यास-प्रश्नावली

 

 

 

अभ्यास-प्रश्नावली


Q1. ऊतक को परिभाषित करें।

उत्तर : एक ही प्रकार की संरचना और कार्य करने वाले कोशिकाओं के समूह को उत्तक कहते हैं | 

Q2. कितने प्रकार के तत्व मिलकर जाइलेम ऊतक का निर्माण करते हैं? उनके
नाम बताएँ।

उत्तर : जाइलेम ये चार प्रकार के घटकों से मिलकर बना है - 

(i) इलेम ट्रेकिड्स (वहिनिका)

(ii) वाहिका

(iii) जाइलेम पैरेंकाइमा और

(iv) जाइलेम फाइबर

Q3. पौधें में सरल ऊतक जटिल ऊतक से किस प्रकार भिन्न होते हैं?

उत्तर : 

Q4. कोशिका भित्ति के आधार पर पैरेन्काइमा, कॉलेन्काइमा और स्क्लेरेन्काइमा के बीच भेद स्पष्ट करें।

उत्तर : 

Q5. रंध्र के क्या कार्य हैं?

उत्तर : स्टोमेटा का कार्य (Functions of stomata):

(i) वाष्पोत्सर्जन की क्रिया भी स्टोमेटा के द्वारा होती है | 

(ii) गैसों का आदान-प्रदान भी स्टोमेटा के द्वारा ही होता हैं | 

Q6. तीनों प्रकार के पेशीय रेशों में चित्र बनाकर अंतर स्पष्ट करें।

उत्तर : 

(a) रेखित पेशी

(b) चिकनी पेशी 

(c) कार्डिक (हृदयक) पेशी 

Q7. कार्डिक (हृदयक) पेशी का विशेष कार्य क्या है?

उत्तर : 

Q8. रेखित, अरेखित तथा कार्डिक (हृदयक) पेशियों में शरीर में स्थित कार्य और स्थान के आधर पर अंतर स्पष्ट करें।

उत्तर : 

Q9. न्यूरॉन का एक चिन्हित चित्र बनाएँ।

उत्तर : 

Q10. निम्नलिखित के नाम लिखेंः
(a) ऊतक जो मुँह के भीतरी अस्तर का निर्माण करता है।
(b) ऊतक जो मनुष्य में पेशियों को अस्थि से जोड़ता है।
(c) ऊतक जो पौधें में भोजन का संवहन करता है।
(d) ऊतक जो हमारे शरीर में वसा का संचय करता है।
(e) तरल अधात्री सहित संयोजी ऊतक।
(f) मस्तिष्क में स्थित ऊतक।

उत्तर : 

(a) सरल शल्की एपिथेलियम

(b) कांडरा

(c) फ्लोएम 

(d) एडिपोस टिश्यू (वसामय उत्तक)

(e) रक्त 

(f) तंत्रिका उत्तक 

Q11. निम्नलिखित में ऊतक के प्रकार की पहचान करेंः
त्वचा, पौधे का वल्क, अस्थि, वृक्कीय नलिका अस्तर, संवहन बंडल।

उत्तर : 

(i) त्वचा - स्तरित शल्की एपिथेलियम

(ii) पौधे का वल्क - कॉर्क रक्षित उत्तक 

(iii) अस्थि - संयोजी उत्तक 

(iv) वृक्कीय नलिका अस्तर - घनाकार एपिथेलियम 

(v) संवहन बण्डल - जटिल उत्तक (जाइलेम और फ्लोएम)  

Q12. पैरेन्काइमा ऊतक किस क्षेत्र में स्थित होते हैं?

उत्तर : 

Q13. पौधें में एपिडर्मिस की क्या भूमिका है?

उत्तर : पौधे में एपिडर्मिस की निम्नलिखित भूमिका है -

(i) यह जल की हानि कम करके पादपों की रक्षा करती हैं | 

(ii) यह जल प्रतिरोधी परत, जल के हानि के विरुद्ध यांत्रिक आधात तथा परजीवी कवक के प्रवेश से पौधों की रक्षा करती है | 

(iii) इसकी जेली जैसी पदार्थ जल प्रतिरोधी परत का निर्माण करती है | 

(iv) जड़ों की एपीडर्मल कोशिकाएँ पानी को सोंखने का कार्य करती हैं | 

Q14. छाल (कॉर्क) किस प्रकार सुरक्षा ऊतक के रूप में कार्य करता है?

उत्तर : 

 

Page 3 of 5

 

Chapter Contents: