Study Materials

NCERT Solutions for Class 9th Science

 

Page 3 of 5

Chapter 4. परमाणु की संरचना

अभ्यास प्रश्नोत्तर

 

 

 

अभ्यास :


Q1. इलेक्ट्रान, प्रोटॉन और न्यूट्रॉन के गुणों की तुलना कीजिए |

उत्तर : 

Q2. जे. जे. टॉमसन के परमाणु मॉडल की क्या सीमाएँ हैं ?

उत्तर - टामसन के मॉडल से परमाणु के उदासीन होने की व्याख्या तो हो गई , परन्तु इस मॉडल के द्वारा दूसरे वैज्ञानिकों द्वारा किये गये प्रयोगों के परिणामों को समझाया नहीं जा सका। 

Q3. रदरफोर्ड के परमाणु मॉडल की क्या सीमाएँ है ? 

उत्तर - रदरफोर्ड ने बताया कि इलेक्ट्रान परमाणु के चरों और वर्तुलाकार चक्कर लगाते और और उर्जा क्षयित करते रहते है | यदि ऐसा है तो इलेक्ट्रान चक्कर लगाते हुए नाभिक से टकरा जायेंगे जिससे परमाणु अस्थिर हो जायेगा | वैद्युत चुम्कीय सिद्धांत के अनुसार रदरफोर्ड के परमाणु मॉडल, परमाणु को अस्थिर बनाता है जबकि परमाणु स्थायी होता है।

Q4. बोर के परमाणु मॉडल की व्याख्या कीजिए |

उत्तर - नील्स बोर अपने परमाणु मॉडल की निम्न अवधारणाएॅ प्रस्तुत कीं - 
(i) इलेक्ट्रॉन केवल कुछ निश्चित कक्षाओं में ही चक्कर लगा सकते है, जिन्हें इलेक्ट्रॉन की विविक्त कक्षा कहते है। 

(ii) जब इलेक्ट्रॉन इस विविक्त कक्षा में चक्कर लगाते है तो उनकी उर्जा का विकिरण नहीं होता। 

Q5. इस अध्याय में दिए गए सभी परमाणु मॉडल की तुलना कीजिए |

उत्तर : 

(i) जे. जे. टॉमसन का परमाणु मॉडल : 

टॉमसन ने परमाणुओं की संरचना से संबंधित एक मॉडल प्रस्तुत किया , जो तरबुज कि तरह था । उन्होंने इसके लिए निम्न मॉडल प्रास्तावित किया। 
(i) परमाणु धनआवेशित गोलेे का बना होता है और इलेक्ट्रॉन उसमें धंसे होते है। 
(ii) ऋणात्मक और धनात्मक आवेश परिणाम में समान होते है। इसलिए परमाणु वैद्युतीय रूप से उदासीन होता है।

(ii) रदरफोर्ड का परमाणु मॉडल :

रदरफोर्ड के परमाणु मॉडल के अनुसार, परमाणु में धनावेशित भाग उसके केंद्र में है जिसे नाभिक कहा जाता है | इस नाभिक में परमाणु का समस्त द्रव्यमान स्थित है | इलेक्ट्रॉन नाभिक के चारों ओर स्थित रिक्त स्थान में चक्कर लगाते हैं | नाभिक का आकार परमाणु के आकार कि तुलना में अत्यंत कम या उपेक्षनीय है | ठीक वैसे ही जैसे एक बड़े से मैदान के बीच में रखा फूटबाल | 

(iii) बोर का परमाणु मॉडल : 

इलेक्ट्रॉन केवल कुछ निश्चित कक्षाओं में ही चक्कर लगा सकते है, जिन्हें इलेक्ट्रॉन की विविक्त कक्षा कहते है। जब इलेक्ट्रॉन इस विविक्त कक्षा में चक्कर लगाते है तो उनकी उर्जा का विकिरण नहीं होता।  

Q6. पहले अठारह तत्वों के विभिन्न कक्षों में इलेक्ट्रान वितरण के नियम को लिखिए |

उत्तर : किसी भी परमाणु के विभिन्न कक्षाओं में इलेक्ट्रानों की संख्या निश्चित होती है जो सूत्र 2nके द्वारा ज्ञात किया जाता है | जहाँ n इलेक्ट्रानों के क्वांटम संख्या को प्रदर्शित करता है |

अत: इस सूत्र से परमाणु के विभिन्न कक्षाओं K, L, M और N में इलेक्ट्रानों की अधिकतम संख्या निम्न होगी |

प्रथम (K) कक्ष में 2 x 12 = 2 

द्वितीय (L) कक्ष में 2 x 22 = 8

तृतीय (M) कक्ष में 2 x 32 = 18

चतुर्थ (N) कक्ष में 2 x 42 = 32 

कक्ष K में अधिकतम 2 इलेक्ट्रान रह सकते हैं |

कक्ष L में अधिकतम 8 इलेक्ट्रान रह सकते हैं |

कक्ष M में अधिकतम 8 या 18 इलेक्ट्रान रह सकते हैं |

कक्ष N में अधिकतम 8, 18 या 32 इलेक्ट्रान रखा जा सकता है | 

Q7. सिलिकॉन और ऑक्सीजन का उदाहरण लेते हुए संयोजकता की परिभाषा दीजिए | 

उत्तर : किसी परमाणु के बाह्यतम कक्षा में उपस्थित संयोजी इलेक्ट्रान की संख्या को उस परमाणु कि संयोजकता कहते है | 

संयोजी इलेक्ट्रान किसी परमाणु के इलेक्ट्रान त्यागने की क्षमता या इलेक्ट्रान ग्रहण करने की क्षमता होती है जिससे वह परमाणु अंतिम कक्षा में अपना अष्टक पूरा कर सके |  

जैसे - (i) सिलिकॉन में परमाणु सख्या 14 है इसलिए इसमें इलेक्ट्रान कि संख्या = 14

इलेक्ट्रॉनिक विन्यास होगा - 2, 8, 4 

अंतिम कक्षा में इलेक्ट्रान 4 है |

अत: सिलिकॉन चार इलेक्ट्रान का त्याग भी सकता है और चार इलेक्ट्रान ग्रहण भी कर सकता है इसलिए इसकी संयोजकता 4 है | 

(ii) ऑक्सीजन की परमाणु संख्या 8 है तो इलेक्ट्रान भी 8 होंगे | 

इलेक्ट्रॉनिक विन्यास - 2, 6 

अब बाह्यतम कक्षा में इलेक्ट्रान 6 है |

अत: ये सिर्फ (8 - 6 = 2) 2 ही इलेक्ट्रान ग्रहण कर सकता है | अर्थात इसके संयोजी इलेक्ट्रान 2 है | अत: इसकी संयोजकता 2 है | 

Q8. उदाहरण के साथ व्याख्या कीजिए-परमाणु संख्या, द्रव्यमान, समस्थानिक और समभारिक समस्थानिकों के कोई दो उपयोग लिखिए |

उत्तर : 

(i) परमाणु-संख्या - किसी परमाणु के नाभिक में उपस्थित प्रोटॉनों की संख्या उस परमाणु की परमाणु-संख्या कहलाती है |

अर्थात - परमाणु संख्या = प्रोटॉन की संख्या 

(ii) द्रव्यमान संख्या - किसी परमाणु के नाभिक में उपस्थित प्रोटॉनों की संख्या और न्यूट्रॉनों की संख्या के कुल योग को द्रव्यमान संख्या कहते है |

अर्थात - द्रव्यमान संख्या = प्रोटॉनों की संख्या + न्यूट्रॉनों की संख्या

(iii) समस्थानिक : किसी तत्व के वे परमाणु जिनकी परमाणु संख्या समान हो परन्तु परमाणु द्रव्यमान भिन्न-भिन्न हो | वे परमाणु उस तत्व के समस्थानिक कहलाते हैं |

जैसे - 

(iv) समभारिक : किसी तत्व के वे परमाणु जिनकी द्रव्यमान संख्या समान हो परन्तु परमाणु संख्या भिन्न-भिन्न हो वे परमाणु समभारिक कहलाते हैं |

जैसे - 

(v) समस्थानिकों के उपयोग : 

1. यूरेनियम के एक समस्थानिक का उपयोग परमाणु भट्टी में ईंधन के रूप में किया जाता है।
2. कैंसर के उपचार में कोबाल्ट के समस्थानिक का उपयोग किया जाता है।
3. घेंघा रोग के इलाज में आयोडिन के समस्थानिक का उपयोग किया जाता हैै।

Q9. Na+ के पूरी तरह से भरे हुए K व L कोश होते हैं - व्याख्या कीजिए |  

उत्तर : सर्वप्रथम, सोडियम का परमाणु संख्या 11 है, इसलिए इसका इलेक्ट्रॉनिक विन्यास होगा –

अब Na+ (सोडियम धनायन) तब बनाएगा जब सोडियम अपने अंतिम कक्ष (M) में उपस्थित 1 इलेक्ट्रान त्याग दे | इलेक्ट्रान त्यागने से धनायन बनता है और इलेक्ट्रान ग्रहण करने से ऋणायन बनता है | जब सोडियम परमाणु 1 इलेक्ट्रान त्याग करता है तो इसका M कोश विलुप्त हो जाता है |

और यह अपने निकटम उत्कृष्ट गैस के विन्यास को प्राप्त करता है और Na+ बनाता है | जैसे –

चूँकि कोश K अधिकतम 2 इलेक्ट्रान धारण कर सकता है और कोश L अधिकतम 8 धारण कर सकता है | अत: Na+ में K व L कोश भरे हुए होते हैं | 

Q14. निम्नलिखित वक्तव्यों में गलत के लिए F और सही के लिए T लिखें |

(a) जे. जे. टॉमसन ने यह प्रस्तावित किया था कि परमाणु के केन्द्रक में केवल न्युक्लियांस होते हैं |

(b) एक इलेक्ट्रान और एक प्रोटॉन मिलकर न्यूट्रॉन का निर्माण करते हैं इसलिए यह अनावेशित होता है |

(c) इलेक्ट्रान का द्रव्यमान प्रोटॉन से लगभग 12000 गुणा होता है |

(d) आयोडीन के समस्थानिक का इस्तेमाल टिंक्चर आयोडीन बनाने में होता है | इसका उपयोग दवा के रूप में होता है |

उत्तर :

(a) F

(b) F

(c) T

(d) F

 

Q15.  रदरफोर्ड का अल्फ़ा कण प्रकीर्णन प्रयोग किसकी खोज के लिए उत्तरदायी था –

(a) परमाणु केन्द्रक

(b) इलेक्ट्रान

(c) प्रोटॉन

(d) न्यूट्रॉन

उतर : (a) परमाणु केन्द्रक

Q16.  एक तत्व के समस्थानिक में होते हैं –

(a) समान भौतिक गुण

(b) भिन्न रासायनिक गुण

(c) न्यूट्रॉनों की अलग-अलग संख्या

(d) भिन्न परमाणु संख्या

उत्तर : (c) न्यूट्रॉनों की अलग-अलग संख्या

Q17.  Cl- आयन में संयोजकता-इलेक्ट्रानों की संख्या है –

(a) 16  (b) 8   (c)  17  (d)  18

उत्तर : (b) 8

Q18.  सोडियम का सही इलेक्ट्रॉनिक विन्यास निम्न में कौन सा है ?

(a) 2, 8   (b) 8, 2, 1    (c) 2, 1, 8   (d)  2, 8, 1

उत्तर : (d)  2, 8, 1

 

 

Page 3 of 5

 

Chapter Contents: