Study Materials

NCERT Solutions for Class 9th History

 

Page 1 of 4

Chapter 2. यूरोप में समाजवाद एवं रुसी क्रांति

मुख्य बिंदु

 

 

 

प्रश्न: वह कौन सी विचारधारा है जो समाज के पुर्नगठन का काम करती है ? 

उत्तर: समाजवादी विचार धारा | 

प्रश्न: उदारवादी किसे कहा जाता है ? 

उत्तर: उदारवादी एक विचारधारा है जिसमें सभी धर्मों को बराबर का सम्मान और जगह मिले | वे व्यक्ति मात्र के अधिकारों की रक्षा के पक्षधर थे |

प्रश्न:  रूस में उदारवादी विचारधारा/समूह ''लोकतंत्रवादी'' नहीं था | क्यों ? 

उत्तर: यह समूह ''लोकतंत्रवादी'' नहीं था | ये लोग सार्वभौमिक व्यस्क मताधिकार यानि सभी व्यस्क नागरिकों को वोट का अधिकार देने के पक्ष ने नहीं थे | उनका मानना था कि वोट का अधिकार केवल सम्पतिधारियों को ही मिलना चाहिए | 

प्रश्न: समाजवादी विचारधारा से आप क्या समझते है ? 

उत्तर: समाजवादी विचारधारा वह विचारधारा है जो निजी सम्पति रखने के विरोधी है और समाज में सभी को न्याय और संतुलन पर आधारित विचारधारा है | 

प्रश्न: समाजवादी निजी सम्पति का विरोध क्या करते थे ? 

उत्तर: समाजवादी निजी सम्पति का विरोध इसलिए कर रहे थे क्योंकि निजि सम्पतियाँ सामंतवाद और समाज में असंतुलन को जन्म देते है | 

प्रश्न: रैडिकल समूह की क्या विचारधाराएँ थी ? 

उत्तर: 

(i) वे ऐसी सरकार के पक्ष में थे जो देश की आबादी के बहुमत के समर्थन पर आधारित हो | 

(ii) इनमें से बहुत सरे लोग महिला मताधिकार आन्दोलन के भी समर्थक थे | 

(iii) ये लोग बड़े जमींदारों और संपन्न उद्योगपतियों को प्राप्त किसी भी तरह के विशेषाधिकारों के खिलाफ थे | 

(iv) वे किसी भी निजी सम्पतियों के विरोधी नहीं थे लेकिन केवल चंद लोगों के पास सम्पति के केन्द्रण के खिलाफ थे | 

प्रश्न: रुढ़िवादी रूस में किस प्रकार के बदलाव चाहते थे ? 

उत्तर: 

(i) रुढ़िवादी तबका रैडिकल और उदारवादी दोनों के खिलाफ था | 

(ii) वे बदलाव की धीमी प्रक्रिया चाहते थे | 

(iii) वह चाहते थे कि अतीत का सम्मान किया जाए अर्थात अतीत को पूरी तरह ठुकराया न जाए | 

प्रश्न: रूस में समाजवादियों की प्रमुख विचारधाराएँ क्या थी ? 

उत्तर: रूस में समाजवादियों की प्रमुख विचारधाराएँ निम्न थी |

(i)  वे निजी सम्पति के विरोधी थे | यानि, वे संपति पर निजी स्वामित्व को सही नहीं मानते थे |

(ii) वे संपति के निजी स्वामित्व की व्यवस्था को ही सारी समस्याओं की जड़ मानते थे | 

(iii) कुछ समाजवादियों को कोआपरेटिव यानि सामूहिक उद्यम के विचार में दिलचस्पी थी | 

(iv) केवल व्यक्तिगत पहलकदमी से बहुत बड़े सामूहिक खेत नहीं बनाए जा सकते | वह चाहते थे कि सरकार अपनी तरफ से सामूहिक खेती को बढ़ावा दे | 

(v) वे चाहते थे कि सरकार पूंजीवादी उद्यम की जगह सामूहिक उद्यम को बढ़ावा दे | 

प्रश्न: रूस में उदारवादी विचारधारा का वर्णन कीजिए | 

उत्तर: 

(i) सभी धर्मों को बराबर का सम्मान और जगह मिले | 

(ii) वे सरकार से व्यक्ति मात्र के अधिकारों की रक्षा के पक्षधर थे |

(iii) उनका कहना था कि सरकार को किसी के अधिकारों का हनन करने या उन्हें छीनने का अधिकार नहीं दिया जाना चाहिए | 

(iv) यह समूह प्रतिनिधित्व पर आधारित एक ऐसी निर्वाचित सरकार के पक्ष में था जो शासकों और आफ्सरों के प्रभाव से मुक्त और सुप्रक्षिक्षित न्यायपालिका द्वारा स्थापित किये गए कानूनों के अनुसार शासन-कार्य चलाये | 

 

Page 1 of 4

 

Chapter Contents: