Study Materials

NCERT Solutions for Class 8th History

 

Page 3 of 4

Chapter 4. आदिवासी, दिकु और एक स्वर्ण युग की कल्पना

महत्वपूर्ण-प्रश्नोत्तर

 

 

 

पाठ: 4. आदिवासी, दिकु और स्वर्ण युग की कल्पना

Short-answer questions:

प्रश्न: झूम खेती के तीन नाम बताइए |

उत्तर: बेवड़, घुमंतू एवं कर्तन |

प्रश्न: बिरसा कब गिरफ्तार हुए

उत्तर: 1895 ई० में |

प्रश्न: बिरसा का जन्म कब हुआ ?

उत्तर: 1870 के दशक में हुआ |

प्रश्न: बिरसा का जन्म किस जनजातिय समूह में हुआ था ?

उत्तर: मुंडा जनजातिय समूह में | 

प्रश्न: बिरसा की मृत्यु कब और कैसे हुई |

उत्तर: सन 1900 में बिरसा की मृत्यु हैजे के कारण हुई थी |

प्रश्न: घुमंतू किसान मुख्य रूप से कहाँ रहते थे ?

उत्तर: पूर्ववर्ती एवं मध्य भारत के पर्वतीय व जंगली पट्टियों में रहते थे |

प्रश्न: झूम झेती किसे कहते है

उत्तर: झूम खेती घुमंतू खेती को कहाँ जाता है |  

प्रश्न: बैगा औरों के लिए काम करने से क्यों कतराते थे ?

उत्तर: बैगा खुद को जंगल की संतान मानते थे, जो जंगल के उपज पर ही जिन्दा रह सकते थे | मजदूरी करना बैगाओं के लिए अपमान की बात थी | 

प्रश्न: मुंडा क्या है ?

उत्तर: मुंडा एक जनजाति समूह है, जो छोटा नागपुर में रहता है | 

प्रश्न: कुछ जनजातिय समूहों के नाम बताओं ?

उत्तर: मुंडा, गोंड, उराव और संथाल जनजातियाँ | 

प्रश्न: ब्रिटिश अफसरों को कौन-सा आदिवासी समूह ज्यादा सभ्य दिखाई देता था ?

उत्तर: एक जगह टिक कर रहने वाले गोंड और संस्थाल समूह सभ्य दिखाई देते थे | 

प्रश्न: स्लीपर क्या है

उत्तर: लकड़ी के वे क्षैतिज तख्ते जिन पर रेल की पटरियाँ बिछायी जाती है | 

प्रश्न: आदिवासी खाना पकाने के लिए कौन-सा तेल इस्तेमाल करते थे ?

उत्तर: आदिवासी खाना पकाने के लिए शाल और महुआ के  तेलों इस्तेमाल करते थे |

प्रश्न: आदिवासी अपनी जीविका कैसे चलाते थे ?

उत्तर: बहुत सारे इलाकों में आदिवासी समूह पशुओं का शिकार करके और अन्य वन उत्पादों के इक्कठा करके अपना काम चलाते थे | वे जंगलों को अपनी जिंदगी के लिए बहुत जरूरी मानते थे |

प्रश्न: वैष्णव किसे कहते है ?

उत्तर: विष्णु की पूजा करने वालों को वैष्णव कहा जाता है | 

प्रश्न: आदिवासी दिकु किसे मानते थे ?

उत्तर: आदिवासी बाहरी लोगों को दिकु मानते थे | 

प्रश्न: आदिवासियों के लिए सफ़ेद झंडा किस बात का प्रतिक था ?

उत्तर: सफ़ेद झंडा बिरसा राज का प्रतिक था |

प्रश्न: बैगा औरों के लिए काम करने से क्यों कतराते थे ?

उत्तर: बैगा खुद को जंगल की संतान मानते थे, जो जंगल के उपज पर ही जिन्दा रह सकते थे | मजदूरी करना बैगाओं के लिए अपमान की बात थी | 

 

 

Page 3 of 4

 

Chapter Contents: