Study Materials

NCERT Solutions for Class 8th History

 

Page 3 of 4

Chapter 3. ग्रामीण क्षेत्र पर शासन चलाना

महत्वपूर्ण-प्रश्नोत्तर

 

 

 

प्रश्न: मुगल बादशाह ने ईस्ट इंडिया कंपनी को बंगाल का दीवान कब तैनात किया?

उत्तर: 12 अगस्त 1765 को मुगल बादशाह ने ईस्ट इंडिया कंपनी को बंगाल का दीवान तैनात किया |

प्रश्न: नील का पौधा मुख्य रूप से कहा पाया जाता है ?

उत्तर: नील का पौधा मुख्य रूप से उष्णकटिबंधीय में पाया जाता है|

प्रश्न: किस अंग्रेज़ ने एक महालवारी व्यवस्था तैयार की उसे कब लागू किया गया?

उत्तर: होल्ट मैकेंजी नामक अंग्रेज़ ने महालवारी व्यवस्था तैयार की जिसे 1822 में लागू किया गया|

प्रश्न: नील की खेती कितने प्रकार की होती है ?

उत्तर: नील की खेती दो प्रकार की होती है|

  1. निज      2. रैयती

प्रश्न: स्थानीय बंदोबस्त की स्थापना किसने ,कब और कहा की?

उत्तर: चार्ल्स कार्नवालिस ने 1793 में बंगाल में की | 

प्रश्न: मद्रास का गवर्नर कौन था?

उत्तर: मद्रास का गवर्नर टॉमस मुनरो था|

प्रश्न: दुनिया का नील उत्पादन कब  आधा रह गया था?

उत्तर: 1783 से 1789 के बीच दुनिया का नील उत्पादन आधा रह गया था|

प्रश्न:1865 में पहले कंपनी ब्रिटेन से किस वस्तु का आयात करते थे?

उत्तर: 1865 में पहले कंपनी ब्रिटेन से सोना और चांदी आयात करते थे|

प्रश्न: ब्रिटेन द्वारा आयात कब किया गया?

उत्तर: 1788 में ब्रिटेन द्वारा किया गया|

प्रश्न: रीड और मुनरो जैसी जातियों की क्या तर्क था ?

उत्तर: उनका यह तर्क था कि उन्हें सीधे किसानों से ही बंदोबस्त करना चाहिए जो पीढीयों से जमीन पर खेती करतें आ रहे है| राजस्व अनकूलन से पहले उनकी जमीनो का सावधानी पूर्वक और अलग से सर्वेक्षण होना चाहिए|

प्रश्न: किन्ही छ: राज्यो में उगाये जाने फसलो के नाम लिखो?

उत्तर:

(1) बंगाल में पटसन,

(2) असम में चाय,

(3) उत्तरप्रदेश में गन्ना,    

(4) पंजाब में गेहू और कपास,

(5) महाराष्ट्र में कपास,

(6) मद्रास में चावल |

प्रश्न: स्थानीय बंदोबस्त किसे कहते है?

उत्तर: जमीन में निवेश करना और खेती के लिए अंग्रेजो ने कानून बनाया कि इस बंदोबस्त की शर्तो के हिसाब से राजाओं और तालुकदारो को जमीनदारो के रूप में मान्यता दी गई| उन्हें किसानों से लगान वसूलने और कंपनी को राजस्व चुकाने का जिम्मा सौपा गया| उनकी ओर से चुकाई जाने वाली राशि स्थायी रूप से तय कर दी गई थी | इसे स्थानीय बंदोबस्त कहते है | 

 

Page 3 of 4

 

Chapter Contents: