Study Materials

NCERT Solutions for Class 8th Civics

 

Page 2 of 3

Chapter Chapter 2. धर्मनिरपेक्षता की समझ

अध्याय

 

 

 

  

        

        Chapter- 2. धर्मनिरपेक्षता की समझ

प्रश्न 1. अपने आस-पडोस में प्रचलित धार्मिक क्रियाकलापों की सूचि बनाइए | आप विभिन्न प्रकार की प्रार्थनाओं, विभिन्न देवताओं की पूजा, विभिन्न पवित्र स्थानों, विभिन्न प्रकार के धार्मिक संगीत और गायन आदि को देख सकते हैं | क्या इससे धार्मिक क्रियाकलापों की स्वतंत्रता का पता चलता हैं ?

उत्तर - मेरे आस-पडोस में विभिन्न धर्मों को मानने वाले लोग रहते हैं | जैसे- हिन्दू, मुस्लिम और सिख |

हिन्दुओं में प्रचिलित धार्मिक क्रियाकलाप - हिन्दू पूजा-अर्चना करने हेतु मंदिरों में जाते हैं | वे होली, दिवाली आदि कई त्योंहार मनाते हैं | वे भगवन की पूजा भजन, आरती आदि गा कर करते हैं | रामायण, श्रीमदभागवतगीता आदि उनके पवित्र ग्रन्थ है |

मुसलमानों में प्रचलित धार्मिक क्रियाकलाप - मुसलमान अपने ईश्वर (अल्लाह) की इबादत करने मस्जिद में जाते हैं | ईद उनका प्रमुख त्यौहार है | कुरान उनका प्रमुख धार्मिक ग्रन्थ है | वे अपनी तीर्थ यात्रा हेतु मक्का-मदीना जाते हैं |

सिखों में प्रचलित धार्मिक क्रियाकलाप - सिख पूजा करने गुरूद्वारे जाते हैं | गुरु ग्रन्थ साहिब उनका पवित्र धार्मिक ग्रन्थ है | वे गुरु नानक जयंती व गुरु गोविंद सिंह जयंती बड़ी धूम-धाम से मनाते हैं |

हाँ, इससे धार्मिक क्रियाकलापों की स्वतंत्रता का पता चलता हैं |

प्रश्न 2. अगर किसी धर्म के लोग यह क्षते है की उनका धर्म नवजात शिशुओं को मरने की छूट देता हैं तो क्या सरकार किसी तरह का दखल देखि या नहीं ? अपने उत्तर के समर्थन में कारण बताइए |

उत्तर - अगर किसी धर्म के लोग यह कहते है की उनका धर्म नवजात शिशुओं को मरने की छूट देता है तो सरकार निश्चित रूप से दखल देगी, क्योंकि -

(i) कानून के अनुसार मनुष्य की हत्या एक गैर क़ानूनी कृत्य है | अतः यह एक दण्डनीय अपराध है |

(ii) यह कार्य मानव अधिकारों का हनन है |

प्रश्न 3. इस तालिका को किजिए :

ऊतर -

उद्देश्य

यह महत्वपूर्ण क्यों है ?

इस उद्देश्य के उल्लंघन का एक उदाहरण

एक धार्मिक समुदाय दूसरे समुदाय पर वर्चस्व नहीं रखता |

सभी समुदायों के समान विकास हेतु |

जम्मू और कश्मीर में मुसलमान हिन्दुओं पर वर्चस्व रखते हैं |

राज्य न तो किसी धर्म को थोपता है और न ही लोगों की धार्मिक स्वतंत्रता को छीनता है |

अल्पसंख्यक के प्रति अत्याचार, भेदभाव व जोर-जबरदस्ती रोकने हेतु |

श्रीलंका में तमिलों पर सिंहलियों का वर्चस्व है |

एक ही धर्म के कुछ लोग अपने ही धर्म के दूसरे लोगों को न दबाएँ |

शांति, सहनशीलता, समन्वय व सौहार्दपूर्ण वातावरण हेतु |

हिन्दुओं में छुआछूत का प्रचलन |

 

प्रश्न 4. अपने स्कूल की छुतियों के वार्षिक कैलेण्डर को देखिए | उनमे से कितनी छुटियाँ विभिन्न धर्मो से संबंधित हैं ? इससे क्या संकेत मिलता है ?

उत्तर - हमें हर वर्ष स्कूल में 30 दिन की चूतियाँ मिलती हैं | इनमे 25 छुटियाँ विभिन धर्मों से संबंधित हैं | जैसे, होलो, दिवाली (हिन्दुओं के त्यौहार) , ईद (मुस्लिम त्यौहार), गुड फ्राइडे , क्रिसमस (ईसाईयों के त्यौहार), गुरु नानक जयंती (सिखों का त्यौहार), महावीर जयंती (जैनियों का त्यौहार), बुद्ध जयंती (बोद्धों का त्यौहार) |

इससे यह संकेत मिलता  है की हमारे देश में सभी धर्मों को समान माना जाता है | भारतीय संविधान के अनुसार प्रत्येक नागरिक को अपनी इच्छा का धर्म अपनाने, उसका प्रचार-प्रसार करने का अधिकार है |

प्रश्न 5. एक ही धर्म के भीतर अलग-अलग दृष्टीकोणों के कुछ उदाहरण देन |

उत्तर - एक ही धर्म के भीतर अलग-अलग दृष्टीकोणों के उदाहरण निम्नलिखित हैं :

(i) हिन्दू धर्म के लोग वैष्णव (विष्णु के भक्त) व शैव (शिव के भक्त) में विभाजित हैं |

(ii) मुसलमान शिया व सुन्नी संप्रदायों में विभाजित हैं |

(iii) बौद्ध धर्म को मानने वाले महायान व हीनयान विभाजित हैं |

प्रश्न 6. भारतीय राज्य धर्म से फासला भी रखता है और उसमे हस्तक्षेप भी करता है | यह उलझाने वाला विचार लग सकता है इस पर कक्षा में एक बार फिर चर्चा कीजिए | चर्चा के लिए इस अध्याय में दिए गए उदाहरणों के अलावा आप अपनी जानकारी के अन्य उदाहरणों का भी सहारा ले सकते हैं

उत्तर - भारतीय राज्य धर्म से फैसला रखता है | भारतीय राज्य की बागडोर न तो किसी एक धार्मिक समूह के हाथों में है और न ही राज्य किसी एक धर्म को समर्थन देता है |

धर्म के नाम पर अलग-थलग करना और भेदभाव को रोकने के लिए भारतीय संविधान ने छुआछुत पर पाबंदी लगाई है |

प्रश्न 7. पाठ्यपुस्तक पृष्ठ 27 पर दिया गया यह पोस्टर 'शांति' के महत्व को रेखांकित करता है | इस पोस्टर में कहा गया है की "शांति न कभी खत्म होने वाली प्रक्रिया है | यह हमारी आपसी भिन्नताओं और साझा हितो को नजरअंदाज करके नहीं चाल सकती |" ये वाक्य क्या बताते हैं ? अपने शब्दों में लिखिए | धार्मिक सहिष्णुता से इसका संबंध हैं ?

उत्तर - किसी भी देश को सुचारू रूप से चलाने के लिए शांति कायम रहना अत्यंत आवश्यक है | यह देश के तेजी से विकास करने में सहायक सिद्ध होता है देश के आर्थिक विकास हेतु मानव संसाधन व अन्य संसाधनों को भलीभांति उपयोग किया जा सकता है |

परन्तु एक देश में विभिन्न धर्मों व समुदायों के लोग रहते है जिनके अपने विचार व नजरिया होते हैं | यह वैचारिक अंतर अधिकतर भेदभाव, वैमनस्यता एवं बेदखली को बढ़ावा देते हैं | धार्मिक विचारों, आपसी भिन्नताओं और साझा हितों को समाज में रहकर नजरअंदाज नहीं किया जा सकता | इसीलिए धार्मिक सहिष्णुता की आवश्यकता है |

प्रश्न 8. इस अध्याय में आप ही की उम्र के विद्यार्थीयों ने भी धार्मिक सहिष्णुता पर तीन तस्वीरें बनाई हैं | धार्मिक सहिष्णुता को ध्यान में रखते हुए अपने शाथियों को दिखने के लिए खुद एक पोस्टर बनाइए |

उत्तर -

 

 

 

Page 2 of 3

 

Chapter Contents: