Study Materials

NCERT Solutions for Class 7th Science

 

Page 2 of 3

Chapter 5. अम्ल, क्षार एवं लवण

अभ्यास-प्रश्नोत्तर (NCERT Solutions)

 

 

 

अभ्यास-प्रश्नोत्तर (NCERT Solutions)


Q1. अम्लों और क्षारकों के बीच अंतर बताइए।

उत्तर: अम्ल और क्षारकों के बीच अंतर : 

अम्ल  क्षारक 
1. अम्ल स्वाद में खट्टे होते हैं |  1. क्षारक स्वाद में कड़वे होते है |
2. ये नील लिटमस पत्र को लाल कर देते हैं | 2. ये लाल लिटमस पत्र को नीला कर देते है |
3. अम्ल H+ आयन बनाते है | 3. क्षारक OH- आयन बनाते है | 
4. उदाहरण : दही, निम्बू का रस और सिरका इत्यादि |  4. उदाहरण: बेकिंग सोडा, साबुन और चुना पानी इत्यादि | 

Q2. अनेक घरेलू उत्पादों, जैसे खिड़की साफ करने के मार्जकों आदि में अमोनिया पाया जाता है। ये लाल लिटमस को नीला कर देते हैं। इनकी प्रकृति क्या है?

उत्तर: क्षारक लाल लिटमस को नीले रंग में बदल देती हैं, इसलिए अमोनिया की प्रकृति क्षारकीय है।

Q3. उस स्रोत का नाम बताइए, जिससे लिटमस विलयन को प्राप्त किया जाता है। इस विलयन का क्या उपयोग है?

उत्तर: लिटमस को लाइकेन से निकाला जाता है। आसुत जल में इसका माउव (बैंगनी) रंग होता है। जब एक अम्लीय विलयन में मिलाया जाता है, यह लाल हो जाता है और जब एक मूल विलयन में मिलाया जाता है, तो यह नीला हो जाता है।
तो, इसका उपयोग विलयनों के अम्लीय या मूल प्रकृति का परीक्षण करने के लिए किया जाता है।

Q4. क्या आसुत जल अम्लीय/क्षारकीय/उदासीन होता है? आप इसकी पुष्टि कैसे करेंगे।

उत्तर: आसुत जल प्रकृतिक रूप से उदासीन होता है। हम लिटमस टेस्ट द्वारा इसे सत्यापित कर सकते हैं। आसुत जल लाल या नीले लिटमस का रंग नहीं बदलता है

Q5. उदासीनीकरण के प्रक्रम को एक उदाहरण देते हुए समझाइए।

उत्तर: जब एक अम्लीय विलयन और एक क्षारीय विलयन उपयुक्त मात्रा में मिलाया जाता है, तो दोनों एक दुसरे के प्रभाव को नष्ट कर देते है। परिणामी विलयन न तो अम्लीय होता है और न ही क्षारकीय होता है, यह उदासीन हो जाता है। इस प्रक्रिया को उदासीनीकरण अभिक्रिया के रूप में जाना जाता है।
तनु हाइड्रोक्लोरिक एसिड से टेस्ट ट्यूब का एक चौथाई भरें और लिटमस की कुछ बूंद डालें उपाय। अब घोल का रंग लाल हो जाता है। अब इस अम्लीय घोल में मिलाएं सोडियम हाइड्रॉक्साइड घोल की बूंदें धीरे-धीरे एक-एक करके ड्रॉपर के साथ मिलती हैं। ट्यूब हिलाओ धीरे। तब तक हिलाते हुए सोडियम हाइड्रॉक्साइड घोल की बूंद को जोड़ते रहें रंग बस हरा हो जाता है। अब हाइड्रोक्लोरिक एसिड के प्रभाव को बेअसर कर दिया गया है बेस सोडियम हाइड्रोक्साइड।

Q6. निम्नलिखित कथन यदि सही हैं, तो (T) अथवा गलत हैं, तो (F) लिखिए।
(क) नाइट्रिक अम्ल लाल लिटमस को नीला कर देता है।
(ख) सोडियम हाइड्रॉक्साइड नीले लिटमस को लाल कर देता है।
(ग) सोडियम हाइड्रॉक्साइड और हाइड्रोक्लोरिक अम्ल एक-दूसरे को उदासीन करके लवण और जल बनाते हैं।
(घ) सूचक वह पदार्थ है, जो अम्लीय और क्षारकीय विलयनों में भिन्न रंग दिखाता है।
(च) दंत क्षय, क्षार की उपस्थिति के कारण होता है।

उत्तर: 

(क) F

(ख) F

(ग) T

(घ) T

(च) F

Q7. दोरजी के रैस्टोरेन्ट में शीतल (मृदु) पेय की कुछ बोतलें हैं। लेकिन दुर्भाग्य से वे चिन्चिहित नहीं हैं। उसे ग्राहकों की माँग के अनुसार पेय परोसने हैं। एक ग्राहक अम्लीय पेय चाहता है, दूसरा क्षारकीय और तीसरा उदासीन पेय चाहता है। दोरजी यह कैसे तय करेगा, कि कौन-सी बोतल किस ग्राहक को देनी है।

उत्तर: दोरजी इन पेय पर लिटमस टेस्ट का उपयोग कर सकते हैं। बस लिटमस पेपर पर पेय की कुछ बूंदें डालें और निम्नलिखित के अनुसार निर्णय लें:

  • यदि यह नीला हो जाता है, तो पेय बुनियादी है।
  • यदि यह लाल हो जाता है, तो पेय अम्लीय है।
  • यदि यह हरा हो जाता है, तो पेय उदासीन है।

Q8. समझाइए, ऐसा क्यों होता हैः
(क) जब आप अतिअम्लता से पीडि़त होते हैं, तो प्रतिअम्ल की गोली लेते हैं।
(ख) जब चींटी काटती है, तो त्वचा पर कैलेमाइन का विलयन लगाया जाता है।
(ग) कारखाने के अपशिष्ट को जलाशयों में बहाने से पहले उसे उदासीन किया जाता है।

उत्तर: 

(क) हाइड्रोक्लोरिक अम्ल की अधिकता के कारण, हम अम्लता से पीड़ित होते हैं। अतिअम्लता की स्थिति में अमाशय में अम्ल की अधिकता हो जाती है जिससे जलन होता है | प्रतिअम्ल की गोली में मिल्क ऑफ़ मैग्नेशिया (मैग्नीशियम हाइड्रॉक्साइड) होता है। जो एक क्षार है और ये अम्ल के प्रभाव को बेअसर कर देता है जिससे अतिअम्लता समाप्त हो जाती है | 

(ख) चींटी के डंक में फॉर्मिक एसिड होता है जो त्वचा पर जलन पैदा करता है। कैलेमाइन सोल्युशन में जिंक कार्बोनेट होता है, जो एक क्षार है। कैलेमाइन सोल्यु त्वचा पर लगाने पर चींटी के काटने का प्रभाव को बेअसर कर देता है | 

(ग) कई कारखानों के कचरे में एसिड होता है। अगर उन्हें पानी में बहने दिया जाए
शरीर, एसिड जलीय जीवों को मार देंगे। इसलिए, कारखाने के अपशिष्ट पदार्थों को जलाशयों में बहाने से पहले उसे उदासीन किया जाता है |

Q9. आपको तीन द्रव दिए गए हैं, जिनमें से एक हाइड्रोक्लोरिक अम्ल है, दूसरा सोडियम हाइड्रॉक्साइड और तीसरा शक्कर का विलयन है। आप हल्दी को सूचक के रूप में उपयोग करके उनकी पहचान कैसे करेंगे?

उत्तर: 

(i) हल्दी का रंग पीला होता है। जब इसे क्षार में डाला जाता है, तो विलयन गुलाबी रंग में बदल जाता है। अर्थात वह विलयन सोडियम हाइड्रोक्साइड का है जो की एक क्षार है| 

(ii) यदि विलयन में हल्दी डालने से गर्म हो जाये और उसका रंग में कोई परिवर्तन न हो तो वह विलयन अम्लीय है अर्थात अवह हाइड्रोक्लोरिक अम्ल है | 

(iii) यदि विलयन में हल्दी डालने से न तो गर्म होता है और न कोई रंग में परिवर्तन होता है तो वह उदासीन विलयन है | 

Q10. नीले लिटमस पत्र को एक विलयन में डुबोया गया। यह नीला ही रहता है विलयन की प्रकृति क्या है? समझाइए।

उत्तर: यदि एक विलयन में डूबा हुआ नीला लिटमस पेपर नीला रहता है, तो इसका मतलब है कि विलयन या तो क्षार या उदासीन है

Q11. निम्नलिखित वक्तव्यों को ध्यान से पढ़ेंः
(क) अम्ल और क्षारक दोनों सभी सूचकों के रंगों को परिवर्तित कर देते हैं।
(ख) यदि कोई सूचक अम्ल के साथ रंग परिवर्तित कर देता है, तो वह क्षारक के साथ रंग परिवर्तन नहीं करता।
(ग) यदि कोई सूचक क्षारक के साथ रंग परिवर्तित करता है, तो वह अम्ल के साथ रंग परिवर्तन नहीं करता।
(घ) अम्ल और क्षारक में रंग परिवर्तन सूचक के प्रकार पर निर्भर करता है।

ऊपर लिखे वक्तव्यों में से कौन-से वक्तव्य सही हैं?
(i) सभी चार
(ii) (a) और (b)

(iii) (b) और (c)
(iv) सिर्फ (d) 

उत्तर: 

(iv) सिर्फ (d) 

 

Page 2 of 3

 

Chapter Contents: