Study Materials

NCERT Solutions for Class 10th Science

 

Page 3 of 5

Chapter 8. जीव जनन कैसे करते है

अभ्यास

 

 

 

अभ्यास : 8 (जीव जनन कैसे करते है )


Q1.  अलैंगिक जनन मुकुलन द्वारा होता है |

        (a)    अमीबा 

        (b)    यीस्ट 

        (c)    प्लैज्मोडियम 

        (d)    लेस्मानिया 

उत्तर: (b) यीस्ट  

Q2.  निम्न में से कौन मानव में मादा जनन तंत्र का भाग नहीं है ? 

        (a)    अंडाशय 

        (b)    गर्भाशय 

        (c)    शुक्रवाहिका 

        (d)    डिम्बवाहिनी  

उत्तर: (c)   शुक्रवाहिका

Q3.  परागकोष में होते हैं - 

        (a)    बाह्यदल  

        (b)    अंडाशय 

        (c)    अंड़प

        (d)    पराग कण

उत्तर: (d)  पराग कण

Q4.  अलैंगिक जनन की अपेक्षा लैंगिक जनन के क्या लाभ हैं ? 

उत्तर: (i) लैंगिक जनन से अधिक विभिन्नताएँ उत्पन्न होती है जो स्पीशीज के असितत्व के लिए आवश्यक है | 

(ii) लैंगिक जनन में दो विभिन्न जीव हिस्सा लेते है | अतः संयोजन अतः अद्भुत होता है |

Q5.  मानव में वृषण के क्या कार्य हैं ? 

उत्तर : वृषण वृषण कोष में स्थित होते है | वृषण शुक्राणु उत्पन्न करते है | वृषण में टैस्टोस्टीरोन  हार्मोन स्त्रवित होता है | वृषण नर जननांगो का अहम हिस्सा है वृषण द्वारा अतिरिक्त के  लक्षणों को भी नियंत्रित करता है | वृषण द्वारा स्त्रवित हार्मोन शुक्राणु को पोषण प्रदान करते है इसके अतिरिक्त ये स्त्राव ही शुक्राणुओ के मादा स्थानांतरण में सहायता होते है |

Q6.  ऋतुस्राव क्यों होता है ?

उत्तर : अण्डाणु का निषेचन शुक्राणुओं द्वारा होता है ऐसा न होने पर अण्डाणु लगभग एक दिन तक जीवित रहता है | इसके पश्चात गर्भाशय की मोटी तथा स्पंजी दीवार टूटकर रक्त व म्यूक्स में बदल जाती है | यह स्त्राव मादा योनि के रस्ते स्त्रावित हो जाता है | इसे ऋतुस्राव कहते है | यह स्त्राव हर माह होता है |

Q7.  पुष्प की  अनुदैर्घ्य काट का नामांकित चित्र बनाइए | 

उत्तर: 

Q8.  गर्भनिरोधन की विभिन्न विधियाँ कौन-सी हैं ?

उत्तर: (i) अवरोधक विधियाँ - इन विधियों को शरीर करे बाहर अर्थात ऊपरी त्वचा पर प्रयोग किया जाता है जैसे - नर के लिए कंडोम , मादा के लिए मध्यपट | ये शक्राणु को मादा के अंडोम से नहीं मिलने देती |

(ii) रासायनिक विधियाँ :  ये विधियाँ मादा द्वारा प्रयोग में ले जाती है | मादा मुखीय गोलियों द्वारा गर्भधारण को रोक सकती है | मुखीय गोलियों विशेषत : शरीर के हार्मोन्स में बदलाव उत्पन्न कर देती है परन्तु कई बार इनके बुरे प्रभाव भी पड़ जाते है |

(iii) लूप अथवा कॉपर- टी : गर्भशय में स्थापित करके भी गर्भधारण को रोक जा सकता है | 

Q9.  एक-कोशिक एवं बहुकोशिक जीवों की जनन पद्धति में क्या अंतर है ?

उत्तर: एक - कोशिक जीवों में सरल संरचना होती है अतः उनमें अलैंगिक प्रजनन होता है तथा जनन के लिए विशेष अंग नंही होते | इनमे जनन दो तरह से होता है - द्विखंदन तथा बहुविखंडन | बहुकोशिकीय जीवों में  जटिल सरंचना के कारण जनन तंत्र होते है अतः उनमें लैंगिक प्रजनन भी होता है तथा अलैंगिक भी |

Q10. जनन किसी स्पीशीज की समष्टि के स्थायित्व में किस प्रकार सहायक है ? 

उत्तर : जनन की मूल रचना DNA की प्रतिर्कति बनाता है | कोशिकाएँ विभिन्न रासायनिक क्रियाएँ  DNA की दो प्रतिर्कति बनती है यह जीव की संरचना एंव पैटर्न के लिए उत्तरदायी है DNA की ये प्रतिर्कतियाँ विलग होकर 'विभाजित होती है | व दो कोशिकाओं का निर्माण करती है | इस प्रकार कुछ विभिन्नता आती है जो स्पीशीज के असितत्व के लाभप्रद है |

Q11. गर्भनिरोधक युक्तियाँ अपनाने के क्या कारण हो सकते हैं ? 

उत्तर : गर्भधारण युकितयाँ गर्भधारण को रोकने हेतु अपनाई जाती है |  जीव प्रजनन क्रिया करते है एंव जीवों की वृद्धि करते है इस प्रकार यदि यह क्रिया निरंतर चलती रहे तो पृथ्वी पर जनसंख्या  विस्फोट हो जाए इसके अतिरिक्त गर्भधारण के समय स्त्री के शरीर पर विपरीत प्रभाव पड़ता है | अतः अधिक बार यह क्रिया उसके लिए हानिकारक हो सकती है | इस प्रकार गर्भ निरोधक  युकितयाँ  परम आवश्यक है |

 

 

Page 3 of 5

 

Chapter Contents: