Study Materials

NCERT Solutions for Class 10th Science

 

Page 3 of 5

Chapter 15. हमारा पर्यावरण

अभ्यास

 

 

 

अभ्यास : 15 ( हमारा पर्यावरण )


1. निम्न में से कौन-से समूहों में केवल जैव निम्नीकरणीय पदार्थ हैं-

(a)  घास, पुष्प तथा चमड़ा | 

(b)  घास, लकड़ी तथा प्लास्टिक | 

(c) फलों के  छिलके , वेफक एवं नींबू का रस | 

(d) केक, लकड़ी एवं घास | 

उत्तर : (a) , (c) ,(d) | 

2. निम्न से कौन आहार शृंखला का निर्माण करते हैं-

(a)  घास, गेहूँ तथा आम | 

(b) घास, बकरी तथा मानव | 

(c)  बकरी, गाय तथा हाथी | 

(d)  घास, मछली तथा बकरी | 

उत्तर : (b) घास, बकरी तथा मानव | 

3. निम्न में से कौन पर्यावरण-मित्र व्यवहार कहलाते हैं-

(a)  बाजार जाते समय सामान के  लिए कपड़े का थैला ले जाना | 

(b)  कार्य समाप्त हो जाने पर लाइट ( बल्ब ) तथा पंखे का स्विच बंद करना | 

(c)  माँ द्वारा स्कूटर से विद्यालय छोड़ने के  बजाय तुम्हारा विद्यालय तक पैदल जाना| 

(d)  उपरोक्त सभी | 

उत्तर : (d)  उपरोक्त सभी | 

4. क्या होगा यदि हम एक पोषी स्तर के  सभी जीवों को समाप्त कर दें ( मार डाले ) ?

उत्तर :  आहार शृंखला का प्रत्येक पोषी स्तर महत्वपूर्ण है | यदि हम एक पोषी स्तर के जीवो को समाप्त कर दे तो अगले स्तर के जीवों को भोजन नहीं होगा और वे भूखे मरेंगे तथा पर्यावरण का संतुलन बिगड़ जायेगा | खाघ शृंखला में ऊर्जा का प्रवाह खत्म हो जाएगा | 

5. क्या किसी पोषी स्तर के  सभी सदस्यों को हटाने का प्रभाव भिन्न-भिन्न पोषी स्तरों के लिए अलग-अलग होगा? क्या किसी पोषी स्तर के  जीवों को पारितंत्र को प्रभावित किए बिना हटाना संभव है?

उत्तर : नहीं , यह प्रभाव भिन्न - भिन्न नहीं होगा | किसी भी एक पोषी स्तर के प्रभावित होने पर सभी स्तर एक समान रूप से प्रभावित होगे | इसके अतिरिक्त किसी भी पोषी स्तर  के जीवों को हटाने पर परितंत्र होता है | प्रत्येक पोषी स्तर  अपने से निचले एवं ऊपरी दोनों ही स्तरों को समान रूप से प्रभवित करता है |  

6. जैव आवर्धन  क्या है? क्या पारितंत्र के  विभिन्न स्तरों पर जैविक आवर्धन का प्रभाव भी भिन्न-भिन्न होगा?

उत्तर : आहार श्रृंखला में​ रासायनिक अजैविक  पदार्थ का अत्यधिक मात्रा में संचित होना जैव आवर्धन कहलाता है | इसकी सर्वाधिक मात्रा मानव में पाई जाती है भिन्न स्तरों का जैविक  आवर्धन भी भिन्न है | यह मात्रा स्तरों में ऊपर की ओर बढ़ती है | 

7. हमारे द्वारा उत्पादित अजैव निम्नीकरणीय कचरे से कौन-सी समस्याएँ उत्पन्न होती हैं?

उत्तर : हमारे द्वारा उत्पादित अजैव निम्नीकरणीय कचरे से  पर्यावरण प्रदूषित होता है | ये विघटित नहीं होते | अत: ओनके निपटान की समस्या भी आती है | ये अनेक समस्याएँ उत्पन्न करते है | 

(i) परितंत्र के सदस्यों का ह्रास करते है |

(ii) जैव आवर्धन  निर्मित करके उसके वृद्धि करते हैं |

(iii) जल , भूमि तथा वायु प्रदुषण फैकते  है |   

8. यदि हमारे द्वारा उत्पादित सारा कचरा जैव निम्नीकरणीय हो तो क्या इनका हमारे पर्यावरण पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा?

उत्तर : जैव निम्नीकरणीय कचरा एक सिमित समय तक ही पर्यावरण को  प्रदूषित  करता है | इसके पश्चात नष्ट होने पर समाप्त हो जाता है तथा पुन : चक्रण में भी उपयोगी है | इनके विघटन के पश्चात वातावरण में बदबू तथा विषैली गैसों उत्पन्न होती है | 

9.ओजोन परत की क्षति हमारे लिए चिंता का विषय क्यों है। इस क्षति को सीमित करने के लिए क्या कदम उठाए गए हैं?

उत्तर : ओजोन परत O3 सूर्य की हानिकारक  पराबैंगनी विकिरणों से हमारी रक्षा करती है | इसकी क्षति से ये विकिरणों को धरती तक पहुँचकर त्वचा के रोग तथा त्वचा का  कैसर उत्पन्न करता है | अतः यह हमारे लिए चितां का विषय है | क्लोरोफ्लोरो कार्बन जिनका उपयोग रेफ्रिजरेटर एवं अग्निशामक में  होता है , ओजोन को क्षति पहुँचा रहे है | इस क्षति को सिमित करने के लिए हमे क्लोरोफ्लोरो कार्बन  तथा रासायनिक पदार्थ का उपयोग कम से कम करना चाहिए | 

 

Page 3 of 5

 

Chapter Contents: