Study Materials

NCERT Solutions for Class 10th Science

 

Page 3 of 5

Chapter 14. उर्जा के स्रोत

अभ्यास

 

 

 

अध्याय : 14 ऊर्जा के स्रोत 


अभ्यास :

1. गर्म जल प्राप्त करने के लिए हम सौर जल तापक का उपयोग किस दिन नहीं कर सकते-

(a) धुप वाले दिन 

(b) बादलों वाले दिन

(c) गरम दिन  

(d) पवनों (वायु) वाले दिन

उत्तर : (b) बादलों वाले दिन |

2. निम्नलिखित में से कौन जैवमात्रा ऊर्जा स्रोत का उदाहरण नहीं है?

(a) लकड़ी

(b) गोबर गैस

(c) नाभिकीय ऊर्जा

(d)  कोयला

उत्तर : (c) नाभिकीय ऊर्जा |
3. जितने ऊर्जा स्रोत हम उपयोग में लाते हैं उनमें सेअधिकाश सौर ऊर्जा को निरूपित करते हैं।
निम्नलिखित में से कौन-सा ऊर्जा स्रोत अंततः सौर ऊर्जा से व्युत्पन्न नहीं है?

(a) भूतापीय ऊर्जा

(b) पवन ऊर्जा

(c) नाभिकीय ऊर्जा

(d) जैवमात्रा

उत्तर : (c) नाभिकीय ऊर्जा |

4. ऊर्जा स्रोत के  रूप में जीवाश्मी ईधनों तथा सूर्य की तुलना कीजिए और उनमें अंतर लिखिए।

उत्तर : जीवाश्मी ईधनों : 

(i) ये समापन योग्य है |

(ii) ये  ऊर्जा के महगे स्रोत है | 

(iii) ये ग्रीन -हाउस को भी प्रभावित करते है | 

 सूर्य :

(i)यह  समापन योग्य नही है |

(ii) ये  ऊर्जा के सस्ते  स्रोत है | 

(iii) यह उपकरण स्वच्छ उर्जा के स्रोत है | 

 5. जैवमात्रा तथा ऊर्जा स्रोत के रूप में जल वैद्युत की तुलना कीजिए और उनमें अंतर लिखिए।

उत्तर : जैवमात्रा :

(i) ये ऊर्जा के नवीकरणीय  स्रोत है | 

(ii) इसकी लागत ज्यादा नही है |

(iii) बायो गैस की उत्पति के करके है |

जल विधुत :

(i) ये भी ऊर्जा के  नवीकरणीय  स्रोत है |

(ii) जल विधुत जल से उत्पन्न होती है |

(iii)   इसकी लागत कुछ सीमा तक महगी है |

6. निम्नलिखित से ऊर्जा निष्कर्षित करने की सीमाएँ लिखिए?

(a) पवनें  (b)  तरंगें  (c)  ज्वार-भाटा 

उत्तर : (a) पवनें : (i)पवनों से ऊर्जा उन्हीँ जगहों पर पाई जाती है जहाँ वर्षा के समय तेज गति से पवने चलती हो | 

(ii) टरबाइनो कि गति के लिए पवनो की न्यूनतम चाल 15km/h से अधिक होनी ऊर्जा चाहिए |

(iii) इसके उपयोग के लिए सचायक सेलों की भी सुविधा होनी चाहिए |

(b)  तरंगें : (i) तरगों से उत्पन्न ऊर्जा को प्राप्त करने के लिए तरगों का प्रबल होना आवश्यक है

(ii) इसका उपयोग करते समय एक - समान विधुत शक्ति प्राप्त नही की जा सकतीं है | 

(iii) इसके किए आवश्यक उपकरण महगे है | 

(c)  ज्वार-भाटा : (i)  इस तरह की ऊर्जा प्राप्ति के लिए बाध का निमार्ण करना आवश्यक है | 

(ii)  ज्वार-भाटा से उत्पन्न ऊर्जा  का प्रयोग सीमित है |

(iii) इसके निमार्ण के लिए जमीन की लागत आधिक है |  

7. ऊर्जा स्रोतों का वर्गीकरण निम्नलिखित वर्गों में किस आधार पर करेंगे ?
(a) नवीकरणीय तथा अनवीकरणीय
(b)  समाप्य तथा अक्षय
क्या (a) तथा (b)के विकल्प समान हैं?

उत्तर : (a)  नवीकरणीय ऊर्जा वे ऊर्जा होती है जिनका उपयोग हम लंबे समय तक आसीमित रूप से कर सकते है | इसका भंडार अक्षय रहता है | जैसे : सौर ऊर्जा और पवन ऊर्जा |

 अनवीकरणीय ऊर्जा वे ऊर्जा होती है जिनका उपयोग यदि हम एक बार कर लेते है तो उनकी पुनः प्राप्ति नहीं की जा सकती है और इनका भंडार समाप्य रहता है | जैसे : जीवाश्मी ईंधन ( कोयला , पैट्रॉल , प्राकृतिक गैस )| 

(b)  (a) और (b) के विकल्प सामान है क्योंकि  नवीकरणीय ऊर्जा अक्षय है परन्तु  अनवीकरणीय ऊर्जा समाप्य है | 
8. ऊर्जा के आदर्श स्रोत में क्या गुण होते हैं?

उत्तर :  ऊर्जा के आदर्श स्रोत के गुण :-

(i) सरलता से प्राप्त हो सके | 

(ii) सस्ता भी होना चहिए | 

(iii) प्रति एकाक आयतन एव द्रव्यमान अधिक कार्य करे |  

9. सौर कुकर का उपयोग करने के क्या लाभ तथा हानियाँ हैं? क्या ऐसे भी क्षेत्र हैं जहाँ सौर कुकरों की सीमित उपयोगिता है?

उत्तर : सौर कुकर का उपयोग करने के लाभ : 

(i) यह उपकरण सस्ता है | 

(ii) इसका उपयोग करने से प्रदुषण नही होती है |

(iii) इनमे कोई गतिमान पुर्जा नही होता है |

सौर कुकर की हानियाँ :

(i) ये उपकरण केवल सूर्य के प्रकाश में ही इसका उपयोग किया जाता है |

(ii) यह भोजन पकाने में sय अधिक लेता है | 

   हां , ऐसे अनेक  क्षेत्र है  सौर -सेल महगे होते है |  जहाँ सौर कुकरों की सीमित उपयोगिता है उदाहरण : अधिक बरसात वाले क्षेत्र , पहाड़ी  क्षेत्र आदि |  

10. ऊर्जा की बढ़ती माँग के पर्यावरणीय परिणाम क्या हैं? ऊर्जा की खपत को कम करने के  उपाय लिखिए।

उत्तर : आज का युग मशीनी युग हो गया है आज की जनसंख्या जीवाश्म ईधन पर्यावरण को प्रदुषण करने के लिए उपयोग करती है | सौर-सेल को उपयोग करने से  पर्यावरणीय सभव है | अनेक प्रकार कि बीमारियाँ बढ़ रही है | 

 ऊर्जा की खपत को कम करने के  उपाय निम्न है :-

(i) कोयला , जीवाश्म ईधन का कम से कम उपयोग |

(ii) मशीनों पर निर्भर  न रहकर स्वय पर  निर्भर  रहना | 

 

Page 3 of 5

 

Chapter Contents: