Study Materials

NCERT Solutions for Class 10th राजनितिक विज्ञान

 

Page 1 of 3

Chapter 6. राजनितिक दल

अध्याय-समीक्षा

 

 

 

अध्याय-समीक्षा 


  • राजनितिक दल का अर्थ - एक ऐसा संगठित समूह जो चुनाव लड़ने और सरकार में राजनीतिक सत्ता प्राप्त करने के उदेश्य से काम करती है | 
  • किसी भी राजनितिक दल के तीन प्रमुख हिस्से होते हैं - (i) नेता (2) सक्रिय नेता (3) अनुयायी या समर्थक |
  • अधिकांश लोकतांत्रिक देशों में चुनाव राजनितिक दलों द्वारा खड़े किए गए नेताओं द्वारा लड़ा जाता है |
  • राजनितिक दल अलग-अलग नीतियों और कार्यक्रमों को मतदाताओं के सामने रखते हैं और मतदाता अपनी पसंद की नीतियों और कार्यक्रमों का चुनाव करते हैं | 
  • राजनितिक दल अपने-अपने नीतियों के अनुसार कानून निर्माण में निर्णायक भूमिका निभाते हैं और संविधान संशोधन में भी इनका योगदान होता है |
  • चुनाव जो राजनितिक दल कम सीटें पाते है उन्हें विपक्षी दल कहते है, ये सरकार में शामिल नहीं होते हैं |
  • शासक दल - जिस दल का शासन हो अर्थात सरकार बनाती हो उसे शासक दल कहते है | 
  • दल-बदल - विधायिका के लिए किसी दल विशेष से निर्वाचित होने वाले प्रतिनिधि का उस दल को छोड़कर अन्य किसी दल में चले जाना | 
  • बहुदलीय व्यवस्था : जब अनेक दलों को सत्ता में आने का ठीक-ठाक अवसर हो अर्थात अनेक पार्टियाँ किसी देश या राज्य के चुनावी प्रक्रियां में भाग लेती हो तो ऐसी व्यवस्था को बहुदलीय व्यवस्था कहते हैं | उदाहरण - भारत |
  • द्वि-दलीय व्यवस्था : ऐसी राजनितिक चुनावी व्यवस्था जिसमें केवल दो दल ही भाग लेते हो द्व-दलीय राजनितिक व्यवस्था कहते हैं | उदाहरण : संयुक्त राज्य अमरीका और ब्रिटेन | 
  • एक दलीय व्यवस्था : कई देशों में एक ही दल को सरकार बनाने और चलाने की अनुमति प्राप्त है | इसे एक दलीय व्यवस्था कहते है | जैसे - चीन जहाँ कई वर्षों से कम्युनिस्ट पार्टी का शासन है | 
  •  

 

Page 1 of 3

 

Chapter Contents: